Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

दैनिक पठन खुराक

अपनी रोज की पठन खुराक –

अखबार – टाइम्स आफ इंडिया – कागजी प्रारूप-  पूरा नही पढा जाता- सरसरी निगाह ही डाल पाते है।

गूगल रीडर पर चुनिन्दा हिन्दी-अंग्रेजी चिट्ठे जिनकी फीड सदस्यता मैने ले रखी है।

दैनिक भास्कर- इंटरनेट संस्करण- विशेष रूप से जय प्रकाश चौकसे का कालम परदे के पीछे

राजस्थान पत्रिका – इंटरनेट संस्करण – विशेष रूप से मेरे गृह जिले झालावाड की खबरें ।

कभी कभार देसी पंडित से चुनिन्दा अंग्रेजी चिट्ठे ।

रेडिफ पर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय खबरें – हाल ही में कलेवर बदल देने के बाद से पठनीयता कम हो गई है। विकल्प की तलाश है।

ब्लागवाणी पर एक सरसरी निगाह डालते हुए कुछ चिट्ठे ।

पुस्तकें पढना आजकल खत्म सा हो गया है। पुनः शुरु करने के प्रयास जारी हैं। कई पुस्तकें बाट जोह रही हैं।

आप रोज क्या पढते हैं?

समाचार एवं सूचना साइट रेडिफ ने हाल ही में अपने कलेवर की झाड-पोंछ की है। हालांकि मेक-अप, पाउडर और लीपापोती ही ज्यादा है…कंटेंट के नाम पर अभी भी वही उलूल-लजुलूल स्लाइड शो होते हैं। पर मुखपृष्ठ पर अब ज्यादा भीड-भाड नही दिखाई देती, बस चुनिंदा आइकन और लिंक्स दिखाई देते हैं। हालांकि साइट में थोडा अन्दर जाने पर लगने लगता है कि ज्यादा काट-छांट के चक्कर में Nevigation थोडा मुश्किल हो गया है। मसलन आप अगर Movies वाले हिस्से में विचर रहे हैं तो वहां से News वाले हिस्से में पहुंचने के लिये आपको वापस मुख पृष्ठ पर आना पडेगा।

खैर , ये तो Designing का मामला है, पर यह देखिये कि अपने Sports वाले हिस्से को रेडिफ मात्र Cricket कहना पसन्द करता है। याने क्रिकेट सब सारों का सार हो गया है। अगर इस भाग में सिर्फ क्रिकेट से जुडी खबरें होती तो ठीक था, पर खबरें आपको यहां सभी खेलों से जुडी मिलेंगी, Url भी http://www.rediff.com/sports है, लेकिन इसे जाना क्रिकेट के नाम से जाना जाता है। सही है…हिन्दुस्तान में वैसे भी क्रिकेट के आगे बाकी सारे खेल पानी भरते हैं।

रेडिफ

और हाँ..कभी मन नही लग रहा हो और दिमाग का दही करने का मूड हो तो रेडिफ के लेखों के Discussion Board देखियेगा।  टाइमपास और सर खुजाने  के लिये अच्छी जगह है।🙂

चार साल

सुबह से दिमाग में कुछ खटक रहा था कि आज कुछ विशेष दिन है, पर समझ नही आ रहा था क्या?

अभी ऐसे ही वर्डप्रेस खोल लिया तो ध्यान आया कि आज अपने इस चिट्ठे की चौथी सालगिरह है। लिखने के हिसाब से यह साल काफी सुस्त बीता है। हालांकि कई अन्य मोर्चों पर काफी क्रांतिकारी भी रहा। पिछले एक साल में मात्र ७ पोस्ट लिख पाया हूं। हालांकि लिखने लायक काफी कुछ हुआ इस दरमियान लेकिन प्राथमिकताएं कुछ और रहीं।  पुस्तकें पढना भी बहुत कम हुआ इस साल, पर ब्लाग पढना बदस्तूर जारी रहा है।

पिछले कुछ दिनों से सोंच रहा था कि ब्लाग को पुनर्जीवित करना है। इस चौथी सालगिरह ने एक अच्छा बहाना दे दिया। अब देखते हैं यह कब तक हो पाता है।

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अलंबरदार NDTV और उनकी एक प्रिय चेहरे की एक हरकत की खबर अभी हाल ही में अंग्रेजी ब्लागमंडल में घूमते हुए मिली जहाँ एक ब्लागर को कानूनी कार्यवाही के सम्मन के जरिये अपनी पोस्ट हटाने और सार्वजनिक रूप से माफीनामा लिखने के लिये मजबूर किया गया।

ब्लागर चैतन्य कुंटे ने अपने ब्लाग पर मुम्बई धमाकों के दौरान हुई मीडिया कवरेज को आडे हाथों लेते हुए इस चैनल और इसके रिपोर्टर पर एक पोस्ट लिखा थी। (पोस्ट अब हटा दी गई है…पर जय हो गूगल Cache की, इंटरनेट पर तो सब कुछ मौजूद रहता ही है, इस पेज पर सबसे नीचे वाला आलेख देखें)। उसके बाद NDTV ने उन पर कानूनी कार्यवाही का सम्मन भेजा (इस पेज पर दूसरा संदेश देखें)। चैतन्य ने अपनी वो पोस्ट हटा ली और यह माफीनामा अपने ब्लाग पर डाला।

और जानकारी एवं अन्य अंग्रेजी चिट्ठाकारों के विचार यहाँ पढें।

यह है अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पैरोकारों की हकीकत। इन्हे अपनी आलोचना बिल्कुल बर्दाश्त नही। सवाल यह नही है कि ब्लागर ने जो लिखा था वो कितना सही या गलत था…लेकिन अगर इसी प्रकार का नोटिस कोई नेता किसी टी वी चैनल को थमा दे तो कितना हल्ला मचाया जायेगा? याने आप  अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का पाठ सबको पढाओ लेकिने खुद अपने बारे में एक शब्द सुनने को तैयार नही…।

क्या किसी ब्लागर से उसकी पोस्ट डिलीट करवाना अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का गला घोंटना नही माना जायेगा? और क्या दुनिया भर की आलोचना करने वाले समाचार चैनल और इनके कर्णधार आलोचनाओं से परे हैं?

मुझे ताज्जुब है कि हिन्दी ब्लागमंडल में इस घटना पर अब तक कोई चर्चा नही हुई है (या शायद मेरी नजर नही पडी)। गुजारिश करूंगा की अगर आपको ये गलत लगता है तो इसके विरोध में अपने ब्लाग पर एक पोस्ट जरूर लिखें।

कुछ दिन पहले सफर की कतरनें लिखते समय भारतीय रेले के स्लीपर क्लास डब्बों में साइड में तीसरी बर्थ घुसा देने से हुई परेशानी पर लिखा था…। कुछ अन्य लोगों ने भी इससे हुई परेशानी का जिक्र किया था। सागर भाई ने भी अपनी एक पोस्ट में इसका जिक्र किया था।

रेलवे की साइट पर हाल ही में एक opinion poll डाला गया है जिसमें इस असु्विधा सुविधा पर यात्रियों से प्रतिक्रिया माँगी गयी है। अन्य लोगों ने भी हाल में रेल यात्रा करते समय इससे होने वाली दिक्कतें भुगती होंगी मसलन सामान रखने के लिये कम जगह, बैठेने  और लेटने के लिये के लिये कम जगह ( दिसम्बर में इन्दौर से मथुरा जा रहा था..साइड ऊपर के बर्थ पर लाख कोशिश के बाद भी खुद को फिट नही कर पाया..आखिरकार सीट बदलनी पडी)

Opinion Poll में भाग लेने के लिये यहाँ चपत लगायें।

फार्म के साथ के एक दिक्कत है कि आपकी यात्रा का सारा विवरण मांगता है., जो जरूरी नही की सबने संभाल कर रखा हो (PNR No., यात्रा तारीख, कोच एवं सीट न. आदि)

आतंक का अनुभव

दुःख,क्षोभ,गुस्सा,निराशा,हताशा…सब कुछ मन में एक साथ गड्डमगड्ड होते चले जाते हैं।

जब बीते साल हैदराबाद में बम धमाके हुए थे तब सच में बहली बार आतंकवाद को इतने करीब से महसूस किया था। मुम्बई में पिछले तीन दिन से चल रहे घटनाक्रम ने उसे अहसास को और गहरा कर दिया है। जैसा कि घुघुतिबासुती जी ने लिखा, आतंकवाद अब पास आता जा रहा है। कल तक ये दूर का समाचार हुआ करता था…लेकिन इस बार..!!! कम से कम तीन लोग जिन्हे मैं जानता हूँ..सीधे तौर पर प्रभावित हुए हैं।

इस हमले में मारे गये लोगों को श्रद्धांजली और आतंकवादियों से सामना करते हुए जान गंवाने वाले जांबाजों को सलाम।

मेरे एक सहकर्मी, उस समय VT Station पर थे जब वहाँ गोलियाँ चलीं। सौभाग्यशाली रहे कि बच निकले…अपनी आँखों के सामने लोगों को गिरते हुए देखा उन्होने। कल जब दिन में उनसे बात हुई तब तक काफी सामान्य हो चुके थे, लेकिन बोले – “जब भी टी वी देखता हूं…मुझे वो दृश्य आँखों के सामने दिखाई देता है। शायद कोई अच्छे काम किये होंगे जो बच गया। लेकिन ये झटका उम्र भर साथ रहेगा।”

कल रात को अपना अनुभव उन्होने मेल पर लिख कर भेजा। उनकी अनुमति से नीचे प्रस्तुत है।

It was 26th March 2008; one fine day was approaching its end. I was on my way back from ABCD back home. I was scheduled to board XYZ mail from Chatrapathi Shivaji terminus Mumbai at 11.30PM. I had started from ABCD with a great feeling of satisfaction that I was able to achieve what I had come for.

26th Nov 2008: 5PM:  It was 5PM I had boarded the Firozpur Janata Express towards Mumbai Central. I was happy that I could get a reservation in the train. But I was wrong. There was a huge tug-of-war to board the train and capture seats. I was surprised to see that there were 4 passengers occupying my reserved seat. But I understood that I need to go by it, as it was not possible to manage such a crowd. I squeezed myself amidst  four of my fellow passengers

26th Nov 2008: 8.30PM: I was approaching Mumbai. I recognized when the train passed by Borivile. I was prepared to get down the train. I was counting the no. of stations passing by, Mahalaxmi, Jogeshwari, Andheri, Dadar, Lower Parel etc, etc.. (My order of stations may be wrong). Finally I reached Mumbai Central

26th Nov 2008: 9.00PM: I just reached CST (formerly VT) by a taxi. I was admiring the layout of the station as how it had two separate terminals, one for the local and other for the main line. I went to the main terminal, I searched for the cloak room and deposited my suitcase. I still had 2.5Hrs to kill. I decided to explore the areas surrounding the station.

26th Nov 2008:10.00PM: I had just been to a beer bar and gulped in two mugs of draught beer. I went to a small food joint and relished Vada Pav (I still linger the taste). I was just entering the station corridor. BOOM.. Kad,kad, kad….. (What noise is that????)

26th Nov 2008:10.15PM: I see a young person holding his gun and firing the ticketing windows, the glass panels being broken, and turning towards the public, two to three cops with their guns started to target the two persons who were firing. One of them throws a grenade towards the cops. Lay down, lay down, (that was a guess cos. They were shouting in Marathi) screamed the police. I fell down.

26th Nov 10.30PM: I see the police cordoning off that area and chasing the terrorists towards the mainline terminal platforms. “Now run, run, run for your life” I said to myself and along with the crowd I ran outside with my backpack still strapped around my shoulders. I was praying to God. “Please save my life for the sake of my daughter, my wife and mother, they need me”

26th Nov 2008: 11.00PM: I ran across the road along with the crowd (I can hear continuous gun shots, explosion but was fading away as I was running away from the station) I saw young boys, girls, kids and I remember a mother hugging her child and running shouting for help. I had crossed the road and reached the other side. I saw shops and offices shutting down the doors and grills. I managed to squeeze into a cafeteria before the grill was forcefully shut

26th Nov 2008: 11.15PM: I was among 12 other people in that cafeteria. There was a knock at the gate, we hear a girl crying and pleading to let her in. One of the person just opened the gate such that she could just squeeze in. The lights were turned off and we were asked to be seated where we were and not to make any noise. I had thoughts of what planning I had as safety measure to support my family, if in case I would not make it home (wildest of thoughts, but I was forced to think so)

26th Nov 2008: 11.30PM: I began to get some confidence that we were safe. We heard sirens and rushing jeeps and cops shouting from mega phones that not to come out and that the operation was on in the station. I calmed down, so were others (excepting that girl who entered at last as her two sisters have boarded train to go the Goa and she was also supposed to join them)

26th Nov 2008: 11.45PM: One of the lights was switched on. We began to introduce each other. What a surprise! I was a XXXX , there was a Malayali ex-servicemen, an IT professional who speaks Telugu, two boys from Orissa, one elderly couple from Sholapur and the crying girl was a Konkani, two Govt servants of MTNL Mumbai,  We were under shelter of a Parsi (INDIA IS UNITED). I knew that I was out of danger and called one of my friends to help me to reach XYZ in the morning. I also requested him not to call up my home and inform on the situation. I was more concerned on their peace and did not want to make them restless.   “Breaking News – Firing at several places in Mumbai – 15 people injured: reports – 20 shots in CST station: Witnesses” – SMS alert on mobile phone

26th Nov 2008: 12 Midnight: My flight ticket was booked. He updated me that the incident was gang-war as per the news channels, but I sensed that it was something more serious.

27th Nov 2008: 12.23AM: “Breaking news – 10 killed in Mumbai terror attack, blasts in Colaba, Vile Parle, 2 ultras holed up in Oberoi hotel, India win by 6 wkts” – SMS news in my mobile. We peeped out through the grill. We see ambulances and police jeeps rushing inside and outwards the station. We see more cops in the streets.

27th Nov 2008: 12.30AM: The elderly couple had slept. The girl was in a sigh of relief as she was able to talk to her sisters who were in the train locked up and all doors and windows shut (as advised by the police), I saw her smiling which made all of us to smile as well. The IT guy was exploring ways to activate GPRS to get online news (His hi-tech mobile’s battery was down)

27th Nov 2008: 01.40AM: “Breaking News – 60 killed in Mumbai terror attack – many ultras hold up in Oberoi hotel – panic grips Mumbai” SMS alert on mobile. One of the Orissa boy says that this is often repeating in Mumbai and expressed that tomorrow Laluji will come and was saying some comic comments on him. We began to discuss on the safety measures that needs to be taken and were mentioning the 9/11 attacks in the US, Glassgow attack in the UK etc.,

27th Nov 2008:03.05AM: I had also dozed for some time, but was not fully asleep. Some were sleeping and the old man had lit up his beedi, disturbing the others inside the cafeteria. He understood our discomfort and put off his beedi. “80 killed in Mumbai terror attack- ATS chief Hemant Karkare dies – CST cordoned off” SMS news alert

27th Nov 2008: 03.30AM: The Malayalee ex-servicemen had left, someone had come to take him back home, we all wished him and felt happy that he was back his home. We now opened the grill gate and enquired with some of the cops who were roaming in the streets to control and heard that the CST station had been sanitized and around 30 to 40 would have been killed. People had started to move out to the streets (nature’s call mainly..)

27th Nov 2008: 04.30AM: Myself along with the IT professional and the hotel’s owner strolled across the road and saw that the station was returning back to normalcy. The train services were resumed and the early morning commuters have started coming to the station much to their shock and unawareness on what had happened last night. Taxi traffic resumed

27th Nov 2008: 04.45AM: I had my flight at 7AM and needed to start for the airport, I greeted and said Good Bye to the others in the cafeteria and walked towards the station hoping to take my suitcase back from the cloakroom. I saw bloody stains, scattered baggage, broken window panes. It was like a place immediately after war. The house keepers of the station began their duty (of course they would have not expected to clean pool of blood, broken glasses etc.) and I said to the cloakroom supervisor “Main tho kal raath hi aanewala tha …magar ??” and collected my suit case. It was weighing more and imagined that if I had not dropped my suitcase in the cloak room, I would have run with my suitcase and increasing my chance of getting plotted

27th Nov 2008: 05.00AM: I engaged a taxi to the airport (The taxiwala was greedy and wanted to make the most out of it, I paid him Rs 800/- to drop me at the airport). There was screening as I entered the airport and had to prove my identity and show my e-ticket confirmation SMS to the cop. I went to the ticket counter, got my e-ticket printed and entered inside the airport. I went to the toilet changed my clothes and freshened up. I did not want to reveal that I had witnessing the attack with my dirty clothes and blood stained chappals

27th Nov 2008: 6.00AM: I called up home and briefed about the last night events and that I have reached airport to board flight. They were shocked on hearing that and my mother had burst in tears, I spoke to my wife that I was alright and not have even the slightest of injury. “All passengers to XYZ are kindly requested to board the aircraft through gate no 9” passenger announcement. I went to board the aircraft

27th Nov 2008: 10.00AM: Landed at XYZ, amidst heavy rain. Boarded a taxi back home, was eagerly awaiting to see my family and finally made it by 11.30AM. “Appaa….” My daughter came running towards me. I was happy, my dear ones had a sigh of relief on their faces (So did I had)

सफर की कतरनें

दिवाली पर ९ दिन के लिये घर जाना हुआ।

रिजर्वेशन कन्फर्म नही हो पाया था, सो जाते समय तो जनरल डब्बे में बैठ कर गया। बहुत सालों बाद ट्रेन के जनरल डब्बे में बैठने का मौका लगा। हैदराबाद से भोपाल तक का रात भर का सफर था और ट्रेन में दिवाली की भीड का अंदाजा तो था…पर ये सोंच के चढ गये कि जाना तो है ही, किसी तरह आज की रात काटनी है बस। किस्मत से टिकने को जगह भी मिल गई…सो बैठ तो लिये ही।

१० व्यक्तियों के बैठने की जगह में ३० लोग फँसे हुए हों तो रात कैसी बीतनी है इसका अंदाजा तो लगाया ही जा सकता है पर मुझे ये समझ नही आता कि भारतीय रेलवे अपनी ट्रेनों में सामान्य श्रेणी के डब्बे क्यों नही बढाता। कालेज समय में कई बार जनरल बोगी में सफर करने का मौका लगा, अलवर-जयपुर-कोटा और मथुरा-कोटा के बीच, पर शायद ही कभी ऐसा हुआ हो कि सामान्य श्रेणी के डब्बे में, लोगों को कम से कम बैठने की सीटें पर्याप्त पड रही हों…हमेशा भंयकर धकापेल ही देखी है।

एक अन्य बात यह,कि आज तक कभी सामान्य श्रेणी के डब्बे में टिकट परिचालक नही देखा…(शायद कमाई का स्कोप कम होता है यहाँ) खैर..आजू-बाजू और सामने वालों पर झूलते हुए और सिर पर पैर रखते हुए, २-४ बार लाइव लडाई देखते हुए, किसी तरह रात कटी और सुबह भोपाल और फिर आगे घर पहुँचे।

लौटते वक्त मैने तीन टिकट करवाये थे, भोपाल-हैदराबाद, भोपाल-नागपुर और नागपुर हैदराबाद…ये सोंचकर कि इनमें से कोई २ भी कन्फर्म हो गये तो सफर कट जायेगा। लेकिन सिर्फ भोपाल-नागपुर ठीक हुआ जबकि कठिन सफर उसके आगे का था। किस्मत से मित्र अंशुल के कजिन मेरी ट्रेन के पहले वाली ट्रेन से हैदराबाद जा रहे थे…उन लोगों के टिकट कन्फर्म थे..बस जनरल टिकट लेकर उनके साथ लद लिये। संयोग देखिये…इस बार तो स्लीपर श्रेणी में भी टी टी साहब ने परेशान नही किया…एक बार उनके दर्शन हुए पर वो इतने व्यस्त थे कि टिकट चेक करने की फुरसत में नही दिखे।

पिछली सफर की कतरनों में मैने लेपटाप के Penetration और ट्रेन में मोबाइल चार्जिंग की परेशानी पर लिखा था। लेपटाप का penetration पहले से ३-४  गुना ज्यादा दिखा(कारण यह भी हो सकता है कि ट्रेन भारत की CyberCity) जा रही थी। और डब्बों में दो चार्जिंग पाइंट भी लगा दिये गये हैं। हालांकि ४ में एक ही डब्बे के पाइट काम कर रहे थे और ८१ लोगों के बीच ये बहुत कम है…पर नही मामा से काना मामा अच्छा। कुछ तो है। वैसे ये पाइंट, बाथरूम के बगल में, डब्बे के दरवाजे के एकदम पास लगाये गये हैं…मतलब उम्मीद ये की जाती है कि यात्री चलती ट्रेन में दरवाजे के पास खडा रहे। खैर, हो सकता है आने वाले समय में हर पंखे के स्विच के साथ एक चार्जिंग पाइंट भी उपलब्ध करवाया जायेगा।

एक करामात और…स्लीपर के डब्बों में साइड की शायिकाओं में जहाँ पहले दो ही लोगों की जगह होती थीं..अब एक शायिका और फंसा दी गई है। इसके फलस्वरूप दिन में तो उस एक बर्थ पर तीन लोगों को फँसना पडता है….और सोते समय ऐसा लगता है कि ताबूत में फँसा दिया है। एक यात्री और बढने एवं सीट के नीचे जगह कम होने से सामान रखने की जगह इतनी कम पडने लगी है कि लगभग हर जगह लोगों को सीटों के बीच में सामान रखने पड रहे थे। है तो ये कमाई बढाने की ट्रिक पर सवारियों की असुविधा का पूरा ध्यान रखा गया है इसे लागू करते समय।

चलते चलते – दिवाली का मौसम अपना इस बार थोडा स्पेशल रहा। जिन्दगी में कुछ उथल पुथल टाइप्स परिवर्तन हो रहे हैं। उम्मीद करता हूं आप सब की दिवाली मंगलमय रही होगी।

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.